प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना क्या है? | Pradhan Mantri Ujjwala Yojana Kya Hai

 प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना भारत सरकार द्वारा शुरू की गयी एक सोशल वेलफेयर योजना है जो की भारत के प्रधानमंत्री द्वारा 1 मई 2016 को UP के बलिया विलेज में शुरु की गयी थी इस योजना का लक्ष्य 5 करोड़ BPL महिलाओ को एलपीजी कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया था जिसमे से 31 मार्च 2017 तक 1.5 करोड़ एलपीजी कनेक्शंस पहले ही दिए जा चके है एवं जल्दी ही बाकि कनेक्शन देने का लक्ष्य पूरा कर लिया जायेगा।

यह भारत की गरीब महिलाओ के लिए एक वरदान के सामान है क्योकि जो गरीब महिला अपनी रसोई में चूल्हे पर खाना बना कर अपना समय व् सेहत ख़राब कर रही है उसको इस स्कीम से जोड़ कर गैस कनेक्शन दिया जा रहा है | इस स्कीम से 3 साल में करीब 1 लाख लोगो को रोजगार मिलने के साथ 10000 करोड़ की बिज़नेस opportunity develop होगी | यह स्कीम मेक इन इंडिया को भी बूस्ट कारने का काम कर रही है।

योजना का कार्यान्वयन

योजना पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा लागू की जाएगी। यह इतिहास में पहली बार है कि पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय इस तरह की विशाल कल्याण योजना को लागू कर रहा है जिससे देश के सबसे गरीब करोड़ों परिवारों से संबंधित महिलाओं को लाभ होगा। इस योजना को तीन साल में पूरा किया जाएगा, अर्थात्, वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18 और 2018-19



उज्ज्वला योजना का लाभ लेने के लिये, जरुरी तथ्य 

  • SECC – 2011 में नाम होना ज़रूरी है।
  • आधार नंबर एंड बैंक अकाउंट होना ज़रूरी है। 
  • आवेदक को 18 वर्ष की आयु से ऊपर की महिला होना चाहिए।
  • आवेदक के पास बीपीएल कार्ड और ग्रामीण निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक परिवार के घर पहले से एलपीजी कनेक्शन नही होना चाहिए।


योजना के लिए पात्रता और चयन प्रक्रिया हेतू पात्र बीपीएल परिवारों की पहचान राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के परामर्श से की जाएगी। योजना के अंतर्गत जिन BPL परिवारों के पास योजना के आरम्भ के समय तक एलपीजी कनेक्शन नहीं है वो इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

लाभार्थी का चयन केवल BPL परिवारों में से ही किया जायेगा। हालाँकि योजना के अंतर्गत SC/ST और दुर्बल वर्ग के लोगों को प्राथमिकता दी जायेगी। एलपीजी कनेक्शन के वितरण के दौरान उन राज्यों को प्राथमिकता दी जाएगी जहाँ पर राष्ट्रीय अनुपात की तुलना में LPG कवरेज कम है।

उज्ज्वला योजना के लिये आवेदन कैसे करें

उज्ज्वला योजना के लिए आवेदन करने के लिए इच्छुक BPL परिवार की महिला सदस्य निर्धारित आवेदन पत्र भरकर अपने नजदीकी LPG वितरण केंद्र में जमा करा सकते हैं। याद रहे कि जिन BPL परिवारों के पास योजना के आरम्भ के समय तक एलपीजी कनेक्शन नहीं है केवल वही योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन पत्र के साथ संलग्न करने वाले दस्तावेजों कि सूची इस प्रकार है।

उज्ज्वला योजना आवेदन करने के लिये जरुरी दस्तावेज

  • BPL राशन कार्ड
  • आधार कार्ड की प्रति
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मतदाता पहचान पत्र
  • टेलीफोन, बिजली या पानी का बिल
  • पासपोर्ट की प्रति राजपत्रित अधिकारी द्वारा सत्यापित स्व-घोषणा पत्र
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • पंचायत प्रधान / नगर पालिका अध्यक्ष द्वारा अधिकृत बीपीएल प्रमाण पत्र
  • बुनियादी विवरण जैसे नाम, संपर्क जानकारी, जन धन / बैंक खाता संख्या, आधार कार्ड नंबर आदि 

जरूरी नहीं कि ऊपर दिए गए सभी दस्तावेजों को आवेदन पत्र के साथ संलग्न किया जाए, इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप एलपीजी वितरण केंद्र पर कि पता करें। 

वित्तीय सहायता

यह योजना बीपीएल परिवारों को एलपीजी कनेक्शन के लिए 1600 रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान करता है। यह सहायता कनेक्शन धारी महिला के नाम पर जारी किया जायेगा। साथ ही सरकार ईएमआई(EMI) की सुविधा भी प्रदान करेगी।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में खाना पकाने के लिए उपयोग में आने वाले अशुद्ध जीवाश्म ईंधन की जगह शुद्ध एलपीजी गैस के उपयोग को बढ़ावा देना है। योजना का एक मुख्य उद्देश्य महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना और उनकी सेहत की सुरक्षा करना भी है। 

इसके अलावा योजना के लागू होने से कई और भी फायदे हैं जैसे की जीवाश्म ईंधन के उपयोग के कारण होने वाले वायु प्रदूषण को कम करने में सहायता करना। जीवाश्म ईंधन पर आधारित खाना पकाने के साथ जुड़े स्वास्थ्य के गंभीर खतरों को कम करना।

अशुद्ध ईंधन पर खाना पकाने की वजह से भारत में होने वाली मौतों की संख्या को कम करना।  
घर के अंदर के वायु प्रदूषण में तीव्र श्वसन की वजह से युवा बच्चों में होने वाली बीमारियों की रोकथाम

Leave a Comment

Your email address will not be published.